Join with usResearch JournalPublish your ResearchResearch Database
Website Visits: Web Counters
Vol.5, Issue 1

Vol.5, Issue 1

SHODH SANCHAYAN

 

Vol.5, Issue.1, 15 Jan, 2014

ISSN  2249 – 9180 (Online)

Bilingual (Hindi & English)
Half Yearly

Print & Online

Dedicated to interdisciplinary Research of Humanities & Social Science

An Open Access INTERNATIONALLY INDEXED REFEREED RESEARCH JOURNAL and a complete Periodical dedicated to Humanities & Social Science Research.

मानविकी एवं समाज विज्ञान के मौलिक एवं अंतरानुशासनात्मक शोध पर  केन्द्रित (हिंदी और अंग्रेजी)

If you don't have Walkman Chanakya on your computer, you will see junk characters, wherever article Text would be in Hindi. For downloading Hindi Fonts, you may please click on

http://www.shodh.net/media/hindifont.zip

Save the fonts files CHANAKBI.PFB, CHANAKBI.PFM, CHANAKBX.PFB, CHANAKBX.PFM, CHANAKIX.PFB, CHANAKIX.PFM, CHANAKYA.PFB, CHANAKYA.PFM, CHANAKYB.PFB, CHANAKYB.PFM, CHANAKYI.PFB and CHANAKYI.PFM into c:\windows\fonts directory.

Once the font is added to your system, you can see the text in Hindi using any browser like Netscape (ver 3 and above), Internet explorer etc.

(हिन्दी शोध आलेखों को पढ़ने के लिए इस वेब ठिकाने के Quick Links मेनू से हिन्दी फॉण्ट डाउनलोड करें और उसे अनजिप (unzip) कर अपने कंप्यूटर के कण्ट्रोल पैनल के फॉण्ट फोल्डर में चस्पा (Paste) करें.)

Index/अनुक्रम

 

शोध के नए माहौल की नैतिकता

शोध  विमर्श

आज आवश्यकता है भारतीय वांगमय में स्थापित उच्चादर्शों, मूल्यों को समकालीन समस्याओं एवं चुनौतियों के सन्दर्भ में रखकर देखा जाए एवं वैश्विक दृष्टि संपन्न मानवीय मूल्यों और तकनिकी उपलब्धियों को आत्मसात करते हुए उन आदर्शों, मूल्यों को स्थापित किया जाए जो भौतिकवादी आदर्शों से उत्पन्न अंतर्विरोधों एवं उपभोक्ता केंद्रित बाजारवादी व्यवस्था के चंगुल से सम्पूर्ण मानवता को बचा सके। यह आलेख भारतीय समाज विज्ञानों के समक्ष खड़ी इन्ही चुनौतियों के परिप्रेक्ष्य को प्रस्तुत करता है।

A Case Study

In The evolutions of new media technologies are becoming very popular among new generation. The circulation of newspapers is continuously decreasing in many developed countries. Indian newspapers are also realising the threats from these new media technologies. They are adopting several new trends to survive themselves and face challenges from new mass media technologies. The present study is an attempt to identify the new trends and styles which are being adopted by present Hindi newspapers in these perspectives.

शोध आलेख

उपन्यास आधुनिक युग की यथार्थपरक अभिव्यक्तियों का प्रतिफलन है। उपन्यास समाज के बहुस्तरीय और बहुरंगीय यथार्थ को प्रस्तुत करता है। कुमाऊँ क्षेत्र के जन-जीवन पर आधारित उपन्यास 'आसमान झुक 'रहा है' में वर्णित लोकविश्वास की घटाओं को अन्वेषित करते हुए पहाड़ के लोगों को समझने का पहल है प्रस्तुत शोध आलेख।

In this Research paper an attempt has been made to have an overview of the current status of Food Processing sector as well as its role in the economic development of the nation in general and economic condition of rural people in particular. It has also been tried to trace various problems faced by small scale industry with regard to food processing units and how to cope-up with these problems.

नयी सदी के नवाचारों में सोशल नेटवर्किंग साईट समाज को तेजी से प्रभावित कर रहा है। वैश्वीकरण का सहजात उपभोक्तावाद सूचना प्रौद्योगिकी का प्रयोग कैसे कर रहा है और उपभोक्ताओं को समर्थ बनाने में सोशल नेटवर्किंग साईट कैसे मदद कर रही है, प्रस्तुत शोध आलेख इसको अनावृत्त करता है।

V.S Naipaul is one of the most gifted writers of the twentieth century: his status reaffirmed by the 2001 Nobel Prize for literature. Although his fiction is scattered In many differing locales, ranging from Trinidad to East Africa, India and Indians are part and parcel of Naipaul’s work. The present paper throws light on Naipaul’s enigmatic relationship with India with reference to one of his Indian travelogues–“India: A Wounded Civilization”.

कथानक रूढ़ि या अभिप्राय उस शब्द अथवा एक सांचे में ढले हुए उस विचार को कहते हैं, जो सामान परिस्थितियों में अथवा सामान मन:स्थिति और प्रभाव उत्पन्न करने के लिए किसी एक कृति अथवा एक ही प्रकार की विभिन्न कृतियों में बार-बार आता है। प्रस्तुत शोध पत्र में अध्येता ने 'रामचरित' मानस में वर्णित विभिन्न कथानक रूढ़ियों को प्रसंग के साथ उद्धृत किया है।

In this paper, the researcher has stressed need for value education. He has also discussed various methods for adopting and implementation of value education among students.

विश्व शांति की दृष्टि से फिलिस्तीन दुनियां के अस्थिर देशों में प्रमुख रहा है। भारत तीसरी दुनियां के देशों में बड़ा देश है और लोकतान्त्रिक मूल्यों की दृष्टि से प्रमुख है। अतएव भारत की विदेश नीति अपने आप में महत्वपूर्ण स्थान रखती है। इस शोध आलेख में भारत फिलिस्तीन के सन्दर्भ में भारत की नीति एवं भूमिका को समीक्षित करने का प्रयत्न किया गया है।

In this paper, the researcher has stressed need for value education. He has also discussed various methods for adopting and implementation of value education among students.

जहाँ तक लोकतान्त्रिक संस्थाओं की बात है, वैदिक साहित्य में सभा, समिति, विदथ, गण, और परिषद् जैसी लोक संस्थाओं का उल्लेख मिलता है। वैदिक कालीन संस्था 'विदथ' आर्यों की प्राचीनतम जनसभा थी। प्रस्तुत शोध आलेख वैदिक युगीन संस्था 'विदथ' के स्वरूप का विवेचन प्रस्तुत करता है।

In this paper the researcher has studied academic anxiety among high school students in relation to gender and type of family. He has explored that there is hardly any difference on the basis of these two factors.

मनुष्य के जीवन में होने वाले त्वरित परिवर्तनों के कारण तनाव उत्पन्न होना एक स्वाभाविक प्रक्रिया है। क्षमता से अधिक कार्य और अपेक्षाओं के दबाव के प्रति तनाव हमारे शरीर की बाह्य प्रतिक्रिया होती है। तानावोत्पत्ति के कारणों को स्वास्थ्य की दृष्टि से रोका जाना अति आवश्यक है। हमारे स्वास्थ्य एवं संवेगात्मक स्थिरता पर तनाव के प्रभाव को कम करने के अनेकों उपाय हैं, जिनको व्यवहार में लाने से तनाव स्वस्थ स्तर पर बना रह सकता है। इनमें अभिव्यंजनात्मक  चिकित्सा एक प्रभावशाली तरीका है जिसके अंतर्गत 'कला के माध्यम से उपचार' एक विशिष्ट विधि है। अब यह कला चिकित्सक पर निर्भर करता है कि वह कितनी कुशलता से तनाव मुक्ति में अपनी भूमिका का निर्वहन करता है।

भारतीय धर्म साधना में सूफियों का महत्वपूर्ण स्थान रहा है। भारतीय निर्गुण परंपरा से इनका वैचारिक और आध्यात्मिक साम्य देखा जा सकता है। प्रस्तुत शोध आलेख सूफी कवि मलिक मुहम्मद जायसी के 'अखरावट' में व्यक्त रहस्यवादी, आध्यात्मिक भावनाओं के स्वरूप को उदघाटित करता है।

शिक्षाशास्त्रियों की दृष्टि में अभिरुचि सीखने की प्रक्रिया का प्रमुख कारक है तथा उच्चतम शैक्षिक उपलब्धियाँ वस्तुत: अभिरुचियों का प्रतिफलन है। प्रस्तुत शोध आलेख छात्रों की विज्ञान विषय में रुचि तथा शैक्षिक उपलब्धि का तुलनात्मक अध्ययन प्रस्तुत करता है।

साहित्य एक तरफ आत्माभिव्यक्ति का साधन है तो दूसरी ओर अपने सामाजिक सरोकारों के लिए चिह्नित होता है। हिन्दी का छायावादी साहित्य आत्माभिव्यक्ति का आख्यान रहा तो दूसरी ओर सामाजिक उत्तरदायित्व का निर्वहन किया। प्रस्तुत शोध आलेख छायावादी कवयित्री महादेवी वर्मा के रेखाचित्रों का सामाजिक चित्रण की दृष्टि से समीक्षा प्रस्तुत करता है।

Advertising appeals to influence the buying behaviour of consumers. The appeal is the central idea around which the advertisement is created. In this study, the researcher has described the effect of presentation of advertisement.

प्रस्तुत शोध पत्र में अध्ययन क्षेत्र झारखण्ड के छ: जिलों यथा  रांची, हजारीबाग, पूर्वी सिंहभूमि, डाल्टन गंज, दुमका और लोहरदगा में सरकार द्वारा स्थापित हस्तशिल्प उद्योग व प्रशिक्षण केन्द्रों में कार्यरत जनजातीय महिलाओं की भूमिका को रेखांकित किया गया है। वर्तमान में हस्तशिल्प उद्योग पर विभिन्न दृष्टिकोण से अध्ययन किया जा रहा है, परन्तु प्रस्तुत शोध पत्र में न सिर्फ हस्तशिल्प उद्योग में जनजातीय महिलाओं की भूमिका को रेखांकित किया गया है, वरन जनजातीय महिलाओं की उपलब्धि के साथ स्थानीय स्तर पर उनकी समस्याओं का रेखांकन व विवेचन किया गया है।

शिक्षण-अधिगम प्रक्रिया को सहज, सरल, रोचक तथा प्रभावशाली बनाने के लिए शिक्षा में आधुनिक तकनीक का प्रयोग किया जाना समय की मांग है, किन्तु यह तभी संभव है जब शिक्षा प्रदान करने की बागडोर सँभालने वाले शिक्षक पूर्ण रूप से आधुनिक तकनीक के कुशल प्रयोग में प्रशिक्षित होंगे। अधिगम प्रक्रिया को प्रभावी बनाने के लिए कैसे पढ़ाया जाये, इसके लिए किस प्रकार के तकनिकी साधनों (Hardware) एवं तकनिकी कार्यक्रमों (Software) का प्रयोग किया जाए, यह सीखना भविष्योन्मुखी शिक्षा के लिए अति आवश्यक है।

अभिरुचि का प्रयोग प्राय: ध्यान, जिज्ञासा, प्रेरणा, इच्छा जैसे शब्दों के समानांतर किया जाता है। गैर संज्ञानात्मक पक्ष के अंतर्गत सम्पूर्ण व्यक्तित्व की एक महत्वपूर्ण विधा रुचि है। किसी भी कार्य की सफलता या असफलता व्यक्ति की अभिरुचि पर ही निर्भर करता है। अत: स्पष्ट है की बालकों की व्यक्तिगत विशिष्टताओं के अनुसार उनकी अभिरुचियों को ध्यान में रखते हुए शैक्षिक परामर्श और निर्देशन प्रदान किया जाना चाहिए। शिक्षकों के लिए यह आवश्यक है कि ऐसे बालक जो मानसिक रूप से मंद बुद्धि हैं, उनकी अभिरुचियों को ध्यान में रखते हुए शैक्षिक निर्देशन प्रदान करें, जिससे उनका उचित मार्गदर्शन हो सके।

शोध प्रबंध समीक्षा

'दूरदर्शन' पर प्रसारित महिलाओं के कार्यक्रमों का समीक्षात्मक अध्ययन

शोध प्रबंध - रश्मि गौतम

शोध प्रकाशन समीक्षा

गोपाल दास 'नीरज' के काव्य में जीवन मूल्य

डॉ. मंजू चौहान

शोध प्रकाशन समीक्षा

महाकवि कालिदास के नाटकों में पर्यावरण संचेतना

डॉ. शीनुल इस्लाम मलिक

सृजन समीक्षा

श्रमजीवी के देश में - डॉ. महेश दिवाकर

 

सृजन समीक्षा

धूप आती ही नहीं - ब्रजभूषण सिंह गौतम 'अनुराग '

 

Display Num 
Powered by Phoca Download